Service Details

  • Home
  • Service Details
Details

PHACO CATARACT SURGERY

मोतियाबिंद क्या है ?

सामान्य आँखों के अंदर एक प्राकृतिक लैंस होता हैं , जो की पारदर्शी होता हैं। जब यह पारदर्शी लैंस अपारदर्शी या धुंधला हो जाता हैं, जब उसे मोतियाबिंद हो जाना कहते हैं। सामान्य तौर पर ५० वर्ष के उम्र के बाद होता हैं। प्लेट लगाने से, दवाओं के प्राधय से एवं मधुमेह से एवं बच्चों में भी जन्मजात मोतियाबिंद हो सकता हैं।

मोतियाबिंद के लक्षण -

-आँखों की परेशानी धीरे धीरे काम होते जाना।
-आसपास की वस्तुओं का काम या धुंधला दिखाई देना।
-वस्तुओं का रंगीन या एक से अधिक दिखाई देना।

फेको अत्याधुनिक मशीन द्वारा -

-अत्याधुनिक फेको इमल्सिफिकेशन मशीन इनफिनिट वर्ल्ड फेको सिस्टम संस्थान (अमेरिका)
-विश्व की सर्वोत्तम टेक्नोलॉजी
-2.2 mm का छोटा चिप।
-nimported foldable लैंस प्रत्यारोपण।
-टांके की आवश्यकता नहीं।
-भर्ती की आवश्यकता नहीं।
-छोटे पैसे से अच्छी दृष्टि जल्दी मिल सकती हैं।
-उच्य रक्तचाप एवं मधुमेह के रोगियों के लिए सुरक्षित ऑपरेशन।

ऑपरेशन पूर्व जाँच एवं सावधानियाँ -

-ऑपरेशन से पहले डॉक्टर के परामर्श के अनुसार Antibiotic eye drops दोनों आँखों में अवश्य डालें।
-शैम्पू से सिर धो लेवें।
-किसी भी प्रकार का कॉस्मेटिक सौन्दर्य प्रसाधन का उपयोग नहीं करें।
-अपना ब्लड शुगर एवं बी. पी. की जाँच करवा लें
-उपचार सिर्फ ऑपरेशन से ही संभव है।

ऑपरेशन पश्चात् सावधानियाँ :-

-ऑपरेशन की गई आँख को चोट लगने से बचाव करें।
-ऑपरेशन की गई आँख को न मलें और न ही रगडे।
-धूल , धुंआ , तेज़ रोशनी आदि से बचाव करें।
-गन्दा पानी , गन्दा कपडा , गन्दा हाथ आँख में न लगावें।
-झुककर भारी सामान न उठावें।
-गले से नीचे स्नान करे , लेटकर सिर धोवें , ध्यान रहे गन्दा पानी आँख में न जावे।
-निर्देशनुसार दवाइयों का नियमित प्रयोग करें।
-पानी में रुई या साफ़ कपडा डालकर उबाल लें और निचोडकर उससे आँखों की तथा चेहरे की सफाई करें।
-आँख में दर्द , सूजन या लाली होने पर तत्काल नेत्र विशेषज्ञ से संपर्क करें।